वर्ष् : 2012अंक : 23बुधवार 08 फरवरी 2012

विकासात्मक योजनाओं पर विस्तारपूर्वक विचार-विमर्श

दरभंगा 08 फरवरी 2012। जिला पदाधिकारी आर0 लक्ष्मणन की अध्यक्षता में जिला समन्वय समिति की बैठक में विभिन्न ग्रामीण विकास योजनाओं, सामाजिक सुरक्षा कार्यक्रम, कल्याण छात्रवृत्ति योजना सहित अन्य विकासात्मक योजनाओं पर विस्तारपूर्वक विचार-विमर्श किये गये एवं जिला पदाधिकारी द्वारा आवश्यक निदेश दिये गये।
 बैठक में इन्दिरा आवास योजना, बिहार भू-जल सिंचाई योजना (बिगबिस), के0सी0सी0, एस0जी0एस0वाई0, कृषि वानिकी, विभिन्न सामाजिक सुरक्षा से संबंधित पेंशन योजना, छात्रवृत्ति योजना के सम्बन्ध में जिला पदाधिकारी ने संबंधित पदाधिकारियो ंको निदेश दिया कि वे समस्त योजनाओं में पारदर्शिता बरतते हुए यथासंभव कैम्प के माध्यम से योजनाओं का लाभ लाभुकों के बीच वितरित करें। बैठक में स्वयं देयता ग्रुप (जे0एल0जी0) जो नवाड की कल्याणकारी योजना है, के सम्बन्ध में बताया गया कि यह योजना भूमिहीन किसानों/मजदूरों को 5 का समूह बनाकर कृषि कार्य करने हेतु बनायी गयी है। इस योजना के द्वारा बटाईदारी करनेवाले कृषि मजदूरों को लाभ मिलेगा। इस योजना में खेती का होना आवश्यक नहीं है। केवल लाभुक को स्वयं घोषणा करना होगा। इस योजना के द्वारा ग्रुप को बैंकों के द्वारा खेती करने हेतु ऋण मुहैया कराये जायेगें।
 बैठक में जिला पदाधिकारी ने उपस्थित बैंकों के प्रतिनिधियों से कहा कि एस0जी0एस0वाई0 योजना जो अब सरकार के दिशा-निदेश के आलोक में बन्द की जायेगी। इसके स्थान पर एन0आर0एल0एम0 योजना प्रारंभ की जायेगी। जिला पदाधिकारी ने बैंकों को कहा कि जितने भी आवेदन प्राप्त हैं उन्हें स्वीकृति देते हुए ऋण देने की कार्रवाई शीघ्र करें। साथ ही प्रखण्ड विकास पदाधिकारी लाभुक द्वारा इस योजना के अन्तर्गत किये गये कार्यों की स्थिति के सम्बन्ध में रिपोर्ट भेजेगें। बैठक में एस0जी0एस0वाई0 के अन्तर्गत एस0एच0जी0 वर्किंग शेड के निर्माण की समीक्षा की गयी। दिनांक 21 फरवरी 2012 को इससे संबंधित कार्यों की समीक्षा हेतु प्रखण्ड विकास पदाधिकारी एल0ई0ओ0 के साथ जिला स्तरीय बैठक में उपस्थित होगें। जिला पदाधिकारी ने बताया कि इस योजना के अन्तर्गत अब केवल उत्कृष्ट कार्य करनेवाले ग्रुप को ही चिन्हि्‌त कर उन्हें सरकार द्वारा अनुमति प्राप्त ऋण पोषित हो सकेगा।
 बैठक में के0सी0सी0 तथा बिगबिस योजना की समीक्षा के क्रम में जिला पदाधिकारी ने कहा कि दिनांक 09 फरवरी 2012 को प्रखण्ड स्तरीय तथा 28 फवरी को जिला स्तरीय कैम्प में के0सी0सी0 एवं बिगबिस योजना के लाभार्थियों को ऋण मुहैया करावें। जिला पदाधिकारी द्वारा दिनांक 09 फरवरी को होनेवाले कैम्प में सभी प्रखण्ड विकास पदाधिकारियों के लिए लक्ष्य निर्धारित किये गये हैं। के0सी0सी0 के लिए लगभग 2500 तथा बिगबिस में 1500 का लक्ष्य दिया गया है। इसी प्रकार जिला स्तरीय 28 फरवरी के कैम्प के लिए लगभग 4500 के0सी0सी0 तथा लगभग 3000 बिगबिस से संबंधित योजनाओं हेतु लक्ष्य निर्धारित किया गया है। इन्दिरा आवास योजना के अन्तर्गत 18 फरवरी को प्रखण्ड स्तर पर कैम्प आयोजित किये जायेगें। जिला पदाधिकारी ने स्पष्ट रूप से सभी प्रखण्ड विकास पदाधिकारियों को कहा कि राशि लेकर मकान नहीं बनानेवाले लाभुकों पर कड़ी कार्रवाई करें। प्रत्येक पंचायतों में 5 ऐसे लाभुकों को लाल नोटिस तथा नीलामपत्र वाद की कार्रवाई करने का निदेश दिया, जो राशि लेकर मकान नहीं बना रहे हैं। जिला पदाधिकारी ने जोर देकर कहा कि प्रखण्ड विकास पदाधिकारी अपने एजेंसियों को इन्दिरा आवास को पूर्ण कराने में लगावें। फरवरी माह के लिए सभी प्रखण्ड विकास पदाधिकारियों को लक्ष्य दिये गये हैं। पूरे जिले में फरवरी माह में लगभग 10 हजार इन्दिरा आवास पूर्ण करने का लक्ष्य निर्धारित किया गया है। इन्दिरा आवास निर्माण में कोताही बरतने के लिए मनीगाछी के प्रखण्ड विकास पदाधिकारी से स्प्ष्टीकरण पूछते हुए वेतन स्थगित किया गया है तथा तारडीह प्रखण्ड विकास पदाधिकारी को स्पष्टीकरण पूछते हुए प्रपत्र 'क' गठित करने का निदेश उप विकास आयुक्त को दिया गया है। बहादुरपुर के प्रखण्ड विकास पदाधिकारी तथा वरीय उप समाहर्ता को स्पष्ट निदेश दिया गया है कि लंबित इन्दिरा आवास की स्वीकृति शीघ्र देने की कार्रवाई करें।
 बैठक में कृषि वानिकी को विकसित करने के उद्देश्य से जिले के ऐसे विद्यालय जहां पर्याप्त भूमि है, वैसे विद्यालयों में पौधे लगाये जायेगें। इसके अतिरिक्त बांध, सड़क एवं सरकारी कार्यालय परिसर में भी वृ+क्षारोपण कराये जायेगें। इस सम्बन्ध में जिला पदाधिकारी ने जिला शिक्षा पदाधिकारी, संबंधित अभियंता, जल संसाधन विभाग के अभियंता सहित संबंधित पदाधिकारियों को आवश्यक निदेश दिया है।
 बैठक में सामाजिक सुरक्षा योजना से संबंधित विभिन्न पेंशन योजनाओं, मनरेगा, कल्याण छात्रवृति सहित अन्य विकास योजनाओं की भी विस्तार से समीक्षा की गयी।
 बैठक में उप विकास आयुक्त, निदेशक डी0आर0डी0ए0, निदेशक एन0ई0पी0, सभी अनुमण्डल पदाधिकारी, सभी वरीय उप समाहर्ता, सभी प्रखण्ड विकास पदाधिकारी, सभी कार्यपालक अभियंता, एल0ई0ओ0, जिला जन सम्पर्क पदाधिकारी, बैंकों के प्रतिनिधिगण सहित अन्य संबंधित पदाधिकारी उपस्थित थे।