वर्ष् : 2011अंक : 226शुक्रवार 30 दिसम्बर 2011

416 भूमिहीनों को वास भूमि का पर्चा वितरित

दरभंगा 30 दिसम्बर 2011। दरभंगा जिला के 138वां स्थापना दिवस समारोह के दुसरे दिन स्थानीय नेहरू स्टेडियम (पोलो मैदान) में जिला पदाधिकारी आर0 लक्ष्मणन ने 416 भूमिहीन परिवारों के बीच वासभूमि संबंधित पर्चा वितरण किया।
       इस अवसर पर जिला पदाधिकारी ने उपस्थित लाभुकों को सम्बोधित करते हुए कहा कि कि जिला के बेघर 5680 परिवारों में से लगभग 3600 परिवारों को वासभूमि संबंधी पर्चा मिल चुका है। संबंधित प्रखण्ड विकास पदाधिकारी को निदेश दिया जा रहा है कि वे जिन्हें पर्चा प्राप्त हो गया है, उन लाभुकों को मकान बनाने हेतु इन्दिरा आवास का लाभ दें। वर्ष 2011 में चौथी बार शिविर लगाकर भूमिहीनों के बीच वासभूमि के लिए पर्चा वितरण किया जा रहा है।
        उन्होंने कहा कि कैम्प में पर्चा वितरण का मुख्य उद्देश्य है कि लोगों को जमीन संबंधी कागजात एक ही स्थान पर प्राप्त हो जाय ताकि इन्हें इसके लिए परेशान न होना पड़े। श्री लक्ष्मणन ने अंचल अधिकारियों को निदेश दिया कि 15 दिन के अंदर भूमि पर कब्जा दिला दें। उन्होंने उपस्थित लोगों का आह्‌वान किया कि वे अपने मकान के निकट शौचालय अवश्य बनावे तथा बच्चों को शिक्षा देने हेतु स्कूल अवश्य भेजें। उन्होंने उपस्थित अंचल अधिकारी को निदेश दिया कि भू राजस्व का मात्र 40 प्रतिशत ही प्राप्त हुआ है। माह फरवरी तक अपने लक्ष्य को अवश्य पूरा करें। उन्होंने बताया कि अबतक इस वर्ष 38 हजार तक दाखिल खारिज हुए हैं, जबकि पिछले वर्ष 26 हजार दाखिल खारिज किये गये थे। उन्होंने लोगों को कहा कि उनके जमीन का दाखिल खारीज सेवा अधिकार अधिनियम के अन्तर्गत शामिल किया गया है, ताकि निष्चित समय अवधि में दाखिल खारिज हो सके।
        लाभुकों को सम्बोधित करते हुए नगर विधायक संजय सरावगी ने कहा कि भूमि देने का कार्य जिला प्रशासन द्वारा किया जा रहा है। यह स्वागत्‌ योग्य कदम है। उन्होंने इस बात पर प्रसन्नता व्यक्त किया कि पर्चा के साथ-साथ दाखिल खारिज एवं जमीन से संबंधित रसीद भी दिया जा रहा है। इससे लोगों को कार्यालय का चक्कर काटना नहीं पड़ेगा। उन्होंने महादलित के लोगों का आह्‌वान किया कि वे सरकार द्वारा चलायी जा रही समस्त योजनाओं का अधिक से अधिक लाभ उठाये। जिला परिषद् अध्यक्ष हरि सहनी ने कहा कि स्थापना दिवस के अवसर पर भूमिहीन परिवारों के बीच बसने के लिए जमीन का पर्चा दिया जाना अत्यन्तखुशी की बात है।
        सदर अनुमंडल के भूमि सुधार उपसमाहर्ता रविरंजन गुप्ता ने बताया कि पर्चा वितरण शिविर में केवटी प्रखण्ड अन्तर्गत 13 गैरमजरूआ आम तथा सिंहवाड़ा अंचल से 27, जाले अंचल से 17, बिरौल अंचल से 32, कुशेश्वरस्थान से 24, कुशेश्वरस्थान पूर्वी 52 सहित कुल 178 गैरमजरूआ खास, 187 वासगीत पर्चा तथा क्रय नीति के अन्तर्गत 38 पर्चा दिया गया।



धान अधिप्राप्ति की समीक्षा

दरभंगा 30 दिसम्बर 2011। घान अधिप्राप्ति से संबंधित कार्यों की समीक्षा मुख्य सचिव द्वारा वीडियो कान्फ्रेसिंग के माध्यम से की गयी। वीडियो कॉन्फ्रेसिंग में निदेश दिया गया कि वे पैक्सों (प्राथमिक कृषि साख सहयोग समिति) को पूरी तरह धान क्रय हेतु तैयार करें तथा उन्हें नियत समय पर भुगतान करें। चेतावनी दी गयी कि किसानों के धान को विचौलिया किसी भी स्तर पर खरीद नहीं सकें तथा किसानों को धान का उचित मूल्य प्राप्त हो। धान क्रय से संबंधित सभी पदाधिकारियों एवं कर्मचारियों को कड़ा निदेश दिया है कि वे इस कार्य में सरकार की प्राथमिकता के अनुरूप कार्य करें, अन्यथा  उनपर कड़ी कार्रवाई की जायेगी।
 वीडियो कॉन्फ्रेसिंग में जिला पदाधिकारी आर0 लक्ष्मणन द्वारा बताया कि धान क्रय से संबंधित सभी तैयारियॉ पूरी कर ली गयी हैं तथा तौल मशीन, बोरा एवं गोदाम की व्यवस्था भी कर ली गयी है। सभी पैक्सों को एक्टीवेट किया गया है। जिला पदाधिकारी ने जिला सहकारिता पदाधिकारी को निदेश दिया कि वे 30.12.2011 को बेनीपुर, अलीनगर, किरतपुर, घनश्यामपुर प्रखण्ड के पैक्सों का एग्रीमेन्ट करें। 31 दिसंबर को जाले, केवटी, बहेड़ी, सदर प्रखण्ड दरभंगा के साथ एग्रीमेन्ट करें। शेष प्रखण्डों को पैक्स को 2 जनवरी 2012 को एग्रीमेन्ट करें। उन्होंने जिला सहकारिता पदाधिकारी द्वारा धान क्रय में कोताही बरतने के कारण स्पष्टीकरण पूछने का निदेश जिला आपूर्ति पदाधिकारी को दिया है। जिला पदाधिकारी ने जिला आपूर्ति पदाधिकारी को निदेश दिया है कि वे धान क्रय से संबंधित प्रतिदिन समीक्षा करें। साथ ही सभी अनुमण्डल पदाधिकारी, प्रखण्ड विकास पदाधिकारी को निदेश दिया है कि वे धान क्रय में बिक्री केन्द्र का नियमित निरीक्षण करें। साथ ही सभी प्रखण्ड विकास पदाधिकारी अपने समक्ष धान क्रय के लिए पैक्स का भुगतान कराना सुनिश्चित करें।
 वीडिया कॉन्फ्रेसिंग में खाद एवं उपभोक्ता संरक्षण विभाग के प्रधान सचिव, एस0एफ0सी0 के प्रबन्ध निदेशक सहकारिता विभाग के प्रधान सचिव भी उपस्थित थे।