वर्ष् : 2011अंक : 215मंगलवार 13 दिसम्बर 2011

स्वास्थ्य सेवा की समीक्षा

 दरभंगा 13 दिसम्बर 2011। जिला पदाधिकारी आर0 लक्ष्मणन ने स्वास्थ्य सेवाओं से संबंधित कार्यों की समीक्षा करते हुए बैठक में उपस्थित सभी प्रभारी चिकित्सा पदाधिकारी एवं डी0एम0सी0एच0 के अधीक्षक को निदेश दिया कि वे स्वास्थ्य सेवाओं को और अधिक जन उपयोगी बनाये, ताकि मरीज आकर्षित होकर अपना ईलाज सरकारी अस्पतालों में करा सकें।
जिला पदाधिकारी द्वारा नई पीढी स्वास्थ्य जॉच योजना, आउट डोर/इन डोर मरीज संस्थागत्‌ प्रसव, महिला बंध्याकरण सहित स्वास्थ्य सेवा से संबंधित विभिन्न योजनाओं एवं अस्पताल के भवनों के निर्माण की समीक्षा की गयी। नई पीढी स्वास्थ्य जॉच योजना के अन्तर्गत जिले में 10 लाख 18 हजार बच्चों की जॉच की गयी तथा जिले का प्रतिशत 63 रहा। जिला पदाधिकारी ने निदेश दिया कि नवम्बर माह में सभी पी0एच0सी0 90 प्रतिशत की उपलब्धि प्राप्त करें। कम उपलब्धि के लिए कुशेश्वरस्थान एवं केवटी के प्रभारी चिकित्सा पदाधिकारी को चेतावनी देते हुए स्पष्टीकरण पूछा गया है। साथ ही बिरौल के प्रभारी चिकित्सा पदाधिकारी को अनुपस्थिति के कारण उनसे स्पष्टीकरण पूछते हुए उनका वेतन स्थगित किया गया है। प्रभारी चिकित्सा पदाधिकारी हायाघाट द्वारा हायाघाट उच्च विद्यालय एवं आनन्दपुर उच्च विद्यालय हायाघाट में बच्चों की अत्यन्त कम उपस्थिति से योजना प्रभावित होने की सूचना पर उक्त विद्यालय के प्रधानाध्यापक से स्पष्टीकरण पूछने का निदेश दिया गया।
  बैठक में एन0आर0ई0पी0 के कार्यपालक अभियंता को निदेश दिया गया कि 31 जनवरी तक न्यू बॉर्न केयर यूनिट को हैण्डओवर करने का निदेश दिया गया। साथ ही मिठुनिया, सुसारी, तुर्की, भच्छी उपस्वास्थ्य केन्द्र को दिसंबर माह में हैण्डओवर करने का निदेश दिया गया।
 पी0एच0ई0डी0 के कार्यपालक अभियंता को मनीगाछी/जाले पी0एच0सी0 का कार्य पूरा नहीं करनेवाले संवेदक पर एफ0आई0आर0 दर्ज करने का निदेश दिया गया। जिला पदाधिकारी ने निदेश दिया कि मनीगाछी, जाले, बेनीपुर पी0एच0सी0 में पी0एच0ई0डी0 विभाग द्वारा कराये गये कार्यों का निरीक्षण सिविल सर्जन, डी0पी0एम0 एवं ग्रामीण कार्य विभाग दरभंगा-1 के कार्यपालक अभियंता द्वारा किया जायेगा। निर्माण कार्य में कमी पाये जाने पर संवेदक के विरूद्ध एफ0आई0आर0 दर्ज की जायेगी।
 बैठक में भवन प्रमण्डल के कार्यपालक अभियंता को निदेश दिया गया कि वे कैंसर वार्ड को एक सप्ताह में, और पारा मेडिकल ट्रेनिंग सेन्टर को 15 जनवरी तक पूर्ण करें। जिला पदाधिकारी ने निदेश दिया कि डी0एम0सी0एच0 में कैदीवार्ड को 15 दिनों के अंदर हैण्ड ओवर करें।
 जिले में अबतक 1668233 आउट डोर पेसेंट का ईलाज किया गया। डी0एम0सी0एच के अधीक्षक को निदेश दिया गया कि वे दिसंबर माह में 50 हजार की उपलब्धि प्राप्त करें, साथ ही डी0एम0सी0एच0 में सी0सी0टीवी0 एवं पारा मेडिकल स्टाफ तथा चतुर्थवर्गीय कर्मचारी को परिचय पत्र देने का निदेश दिया गया। जिला पदाधिकारी ने प्रभारी चिकित्सा पदाधिकारी को भी अपने कर्मियों को भी परिचय पत्र बनाने का निदेश दिया। साथ ही पी0एच0सी0 सहित डी0एम0सी0एच0 में भी दवा का स्टॉक पोजीशन को डिसप्ले करने का निदेश दिया गया।
 संस्थागत्‌ प्रसव की समीक्षा के क्रम में डी0एम0सी0एच0 के अधीक्षक एवं केवटी प्रखण्ड के प्रभारी चिकित्सा पदाधिकारी से स्पष्टीकरण पूछा गया है। साथ ही प्रत्येक पी0एच0सी0 को 300 से 500 के बीच एवं डी0एम0सी0एच0 को 1000 दिसंबर माह में संस्थागत्‌ प्रसव कराने का टास्क दिया गया है। जिले में नवम्बर माह तक 5825 महिलाओं द्वारा बंध्याकरण कराया गया है। जिला पदाधिकारी द्वारा केवटी प्रखण्ड के प्रभारी चिकित्सा पदाधिकारी से कम उपलब्धि रहने पर स्पष्टीकरण पूछा गया है तथा डी0एम0सी0एच0 को दिसंबर माह में 300 एवं अन्य पी0एच0सी0 को 300 से 500 के बीच उपलब्धि हांसिल करने का निदेश दिया गया है। पुरूष नसबन्दी से संबंधित सभी पी0एच0सी0 एवं डी0एम0सी0एच0 को 10-10 नसबन्दी कराने का निदेश दिया गया।
 बैठक में सिविल सर्जन, सभी प्रभारी चिकित्सा पदाधिकारी, हेल्थ मैनेजर, प्रखण्ड हेल्थ मैनेजर, जिला जन सम्पर्क पदाधिकारी सहित सभी संबंधित पदाधिकारी उपस्थित थे।