वर्ष् : 2011अंक : 203शनिवार 26 नवम्बर 2011

सफलता के लिए सुनिश्चित लक्ष्य व परिश्रम जरूरी : प्रो. चौधरी

दरभंगा 26 नवम्बर 2011। विधान पार्षद प्रो. विनोद कुमार चौधरी ने कहा कि सफलता के लिए सुनिश्चित लक्ष्य और परिश्रम जरूरी है। आधुनिक देश की परिकल्पा को साकार करने के लिए नई पीढ़ी का शिक्षित होना जरूरी है। प्रो. चौधरी आज यूनेस्को क्लब ऑफ दरभंगा सिटी के तत्वावधान में स्थानीय दरभंगा सेन्ट्रल स्कूल परिसर में आयोजित नागरिक अभिजागरण समारोह को संबोधित कर रहे थे।
 प्रो. चौधरी ने कहा कि समाज के नव निर्माण के लिए लोगों में जनचेतना आवश्यक है। उन्होंने कहा कि नई पीढ़ी का सांस्कृतिक, शैक्षणिक और भौतिक विकास जरूरी है। देश किस ओर बढ़ेगा यह नौनिहाल ही तय करेंगे। उन्होंने अभिभावकों से आह्‌वान किया कि यदि नौनिहाल सुसंस्कृत होंगे, तो संस्कार पथच्युत नहीं होगा।
 प्रो. चौधरी ने कहा कि बिहार में शिक्षा के क्षेत्र में सरकार के उठाये गये कदमों से विकास की गति तीव्र हुई है। राज्य सरकार पर्यावरण के प्रति भी गंभीर हैं। जब तक पर्यावरण संरक्षित नहीं होगा, जीवन जीना मुश्किल हो जायेगा। उन्होंने कहा कि मुख्यमंत्री नीतीश कुमार की अगुआयी में जनता दल यूनाईटेड संसार में पहला राजनीतिक दल है जो पर्यावरण के प्रति संवेदनशील हुआ है और इसके लिए राज्य में हरित बिहार अभियान चलाया जा रहा है।
 यूनेस्को ऑफ दरभंगा सिटी के अध्यक्ष विनोद कुमार पंसारी ने कहा कि बच्चे संवेदनशील होते हैं। उनके ज्ञान का बड़ा भाग अनुकरण से अधिक सीखा हुआ होता है। बचपन में पड़ी आदत वे भूलते नहीं हैं। ये आदत उनके व्यक्तित्व पर अमिट छाप ही नहीं छोड़ती, अपितु उनके जीवन को भी प्रभावित करता है। इसीलिए जरूरी है कि शिक्षक एवं अभिभावक बच्चों में प्रारम्भ में ही सुसंस्कार का बीजारोपण करें।
 इस अवसर पर प्राख्यात चिकित्सक डा. सुनीति सिन्हा, महिला प्रौद्योगिकी संस्थान (डब्ल्युआईटी) के निदेशक डॉ. लालमोहन झा एवं आईबीएम के निदेशक डॉ. ब्रजमोहन मिश्रा ने स्वास्थ्य, शिक्षा एवं पर्यावरण से संबंधित विषयों पर व्याख्यान देकर लोगों को जागरूक किया। दरभंगा सेन्ट्रल स्कूल के प्राचार्य डॉ. अभय कुमार कश्यप ने सामाजिक जीवन में नागरिक अभिजागरण के महत्व को रेखांकित करते हुए कहा कि उदार, सबल एवं सक्षम नागरिक की सुदृढ़, सम्मुनत शहर के निर्माता हैं। इस अवसर पर पी.के. कॉलेज के निदेशक पी.के. केजरीवाल, डॉ. के.एन.पी. सिन्हा ने भी अपने विचार व्यक्त किये। अनुरोधा कोमल सेन के अद्भूत स्वर-माधुर्य एवं भाव सम्प्रेषण से किया गया कार्यक्रम का संचालन चिरस्मरणीय रहेगा।